किसान पहले राज बदलें, जींद:  मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने किसानों से कहा कि वह लड़ने से पहले सवालों को समझें. उन्होंने किसानों से कहा कि वह सबसे पहले राज बदलें, फिर एकजुट होकर अपनी सरकार बनाएं. मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक रविवार को गांव कंडेला में आयोजित कंडेला खाप एवं माजरा खाप द्वारा आयोजित किसान सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि किसान खुद को ताकतवर बनाएं, लेकिन यह तभी संभव है, जब दिल्ली में लाल किले पर खुद का झंडा फहराओगे. खापों की ओर से उन्हें पगड़ी और भाईचारे की मिसाल हुक्का भेंट किया गया. उन्होंने खापों द्वारा दिए गए किसान सम्मान रत्न को ग्रहण करने के बाद उन किसानों को वापस कर दिया, जिन्होंने किसान आंदोलन में अपनी जान गंवाई. उन्होंने कहा कि किसान एक साल से ज्यादा वक्त तक सड़कों पर दिल्ली में गर्मी, सर्दी तथा बारिश की परवाह किए बिना डटे रहे. उन्होंने कहा कि खापें हमारी ताकत हैं. जब भी खापों को जरूरत होगी, तो वे उनके साथ खड़े होंगे. उन्होंने लड़कियों को पढ़ाने, सामूहिक भोज बंद करने और दहेज प्रथा पर रोक लगाने की अपील की. उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी सतपाल मलिक राजनीतिक हमला कर चुके हैं। विगत दिनों उन्होंने  केंद्र सरकार की आलोचना करने वाले मेघालय के गवर्नर सत्यपाल मलिक (Meghalaya Governor Satya Pal Malik) ने कहा है कि जब वो कृषि कानूनों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मिलने पहुंचे तो उनसे उनकी गरमागरम बहस हो गई और पांच मिनट के अंदर ही दोनों नेताओं के बीच झगड़ा हो गया. सतपाल मलिक ने हरियाणा के दादरी में एक सामाजिक समारोह को संबोधित करते हुए कहा, था कि  “मैं जब किसानों के मामले में प्रधानमंत्री जी से मिला तो मेरी पांच मिनट में ही उनसे लड़ाई हो गई. वो बहुत घमंड में थे. जब मैंने उनसे कहा, हमारे 500 लोग मर गए, तो उन्होंने कहा, मेरे लिए मरे हैं? मैंने कहा आपके लिए ही तो मरे थे, क्योंकि आप राजा जो बने हुए हो, इसको लेकर मेरा उनसे झगड़ा हो गया.”

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.