टंकी फुल करा रहे लोग,

चुनाव बाद लोगों को महंगाई का डर सताने लगा है। ऐसे में लोग नतीजों से पहले ही रसोई गैस सिलेंडर भरवा रहे हैं। गैस एजेंसियों के मुताबिक पिछले कुछ दिनों में तीन गुना तक खपत बढ़ गई है। वहीं कच्चे तेल की कीमतों में उछाल के मद्देनजर पंपों पर डीजल, पेट्रोल भरवाने के लिए कतारें लग रही हैं।

मेरठ में रोजाना करीब 12 हजार गैस सिलेंडर की खपत होती है, इन दिनों यहां आंकडा 30 हजार के पार पहुंच रहा है। वित्तीय वर्ष की समाप्ति को भी एक कारण बताया जा रहा है। मेरठ गैस एजेंसी के वैभव जैन ने बताया कि लोग लगातार रसोई गैस बुक कर डिलीवरी ले रहे हैं। मोहन गैस एजेंसी के मैनेजर लोकेश ठाकुर ने बताया कि लोगों को चुनाव के बाद रसोई गैस सिलेंडर महंगे होने का अंदेशा है। इसके चलते लोग डिलीवरी ले रहे हैं। उधर, एजेंसी संचालकों का कहना है कि वित्तीय वर्ष का अंतिम माह होने के कारण भी लोग अपना कोटा पूरा करने के लिए सिलेंडर ले रहे हैं। वहीं कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतें बढ़ने के बाद लोगों में डीजल पेट्रोल के दाम बढ़ने का अंदेशा है। इसके मद्देनजर सोमवार को पेट्रोल पंप पर वाहनों की कतारें देखने को मिली। वाहन चालक वाहनों की टंकी फुल करा रहे हैं।

सुबह-शाम तक भीड़ रही

रोहटा। रूस द्वारा यूक्रेन पर किए जा रहे हमले के चलते और चुनाव मतगणना के बाद कच्चे तेल की कीमतों के बढ़ने के आसार हैं। इसके चलते मेरठ जिले के किसान व वाहन चालक पेट्रोल डीजल लेने के लिए पेट्रोल पंपों पर पहुंच रहे हैं। सोमवार को रोहटा क्षेत्र के पेट्रोल पंप पर सुबह से शाम तक भीड़ लगी रही। हालांकि पंप संचालकों का कहना है कि रेट को लेकर अभी तक कोई आदेश नहीं आया है। लेकिन उन्होंने रेट में भारी उछाल की आशंका से इंकार नहीं किया है। उन्होंने बताया कि जैसे ही नए रेट आएंगे उसके अनुसार ही मूल्य लिया जाएगा।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.