विषय चुनने की आजादी का स्वागत, CCSU Meerut News नई शिक्षा नीति (एनईपी) के तहत इस बार चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय (सीसीएसयू) कैंपस और कालेजों में छात्र-छात्राओं को विषय चुनने की आजादी दी गई थी। आंकड़ों के अनुसार स्नातक कला वर्ग में राजनीतिक विज्ञान विषय की सबसे अधिक मांग रही। जबकि कला वर्ग में समाज शास्त्र विषय दूसरी पसंद बनकर उभरा है। भाषा विषय में हिंदी लेने वालों की संख्या अंग्रेजी से अधिक हैं। जबकि व्यवसायिक शिक्षा (वोकेशनल व स्किल) में कंप्यूटर, सामाजिक कार्य और योग पढऩे वाले छात्र-छात्राएं सबसे अधिक हैं। एनईपी के तहत स्नातक प्रथम सेमेस्टर में छात्र विषयवार मेजर, माइनर, को-करीकुलर, वोकेशनल कोर्स पढ़ रहे हैं। 12 अप्रैल से इनकी परीक्षा शुरू हुई है। यह परीक्षा 26 मई तक चलेगी। एनईपी के तहत संचालित बीए, बीएससी, बीकाम प्रथम सेमेस्टर में 85 हजार छात्र-छात्राएं इस बार परीक्षा दे रहे हैं। बीए प्रथम सेमेस्टर में सबसे अधिक 27 हजार छात्रों ने राजनीति विज्ञान विषय लिया है। विज्ञान वर्ग स्नातक में रसायन विज्ञान सबसे पहली पसंद वाला विषय है। इसमें सबसे अधिक 13 हजार छात्र हैं। हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू में सबसे अधिक हिंदी में 24 हजार छात्र- छात्राएं हैं। वोकेशनल और स्किल कोर्स में बीए, बीएससी, बीकाम प्रथम सेमेस्टर में छात्र-छात्राएं सबसे अधिक सर्टिफिकेट कोर्स इन कंप्यूटर की परीक्षा दे रहे हैं। इसके बाद योग, सोशल वर्क जैसे विषय लेने वाले हैं। ज्योतिष, वास्तु, स्पोकन संस्कृत, म्युजिक थेरेपी, हास्पिटल मैनेजमेंट, म्युजियोलाजी, मृदा परीक्षण में पहले सेमेस्टर में बहुत कम छात्र हैं। बीए प्रथम सेमेस्टर के छात्र कम्युनिकेशन स्किल व पर्सनालिटी डेवलपमेंट जैसे विषय में भी रुचि दिखा रहे हैं।

इनका कहना है

राजनीति विज्ञान का उपयोग कई आयामों पर हो रहा है। इससे सबसे अधिक छात्र-छात्राएं इस विषय को ले रहे हैं। विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में 60 फीसद सामान्य ज्ञान के प्रश्न राजनीति से आता है। पत्रकारिता, ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट, समाज सेवा, एनजीओ, पंचायती व्यवस्था से लेकर राजनीतिक परामर्शदाता के तौर पर छात्र इसमें करियर बना सकते हैं।

– प्रो. पवन शर्मा, विभागाध्यक्ष, राजनीति विज्ञान विभाग, विवि कैंपस

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.