15 से बजेंगी शहनाई, जिन घरों में शहनाई का इंतजार किया जा रहा है उनका इंतजार 14 अप्रैल को खत्म हो जाएगा। 15 अप्रैल से शहनाईयां बजने जा रही हैं। वाह-समारोह की शुभ घड़ी का इंतजार कर रहे लोगों को जल्द ही खुशखबरी मिलने वाली है। ठीक 10 दिन बाद यानी 15 अप्रैल से विवाह समारोह का शुभ मुहूर्त शुरू होने जा रहा है। 15 अप्रैल से लेकर 30 अप्रैल तक सिर्फ 5 दिन छोड़कर कुल 10 दिन शुभ विवाह का मुहूर्त है। लोग चाहें तो अप्रैल महीने में 10 दिन के दौरान शुभ विवाह कर सकते हैं। इसके बाद  मई, जून और जुलाई महीने में खूब सारे दिन शुभ विवाह के हैं। इसके बाद अगस्त, सितंबर और अक्टूबर में विवाह के शुभ मुहूर्त नहीं हैं, लेकिन नवंबर और दिसंबर में फिर शुभ मुहूर्त के शुरुआत हो जाएगी। इस बाबत मेरठ की ज्योतिषाचार्या नीतू शर्मा का  कहना है कि 14 मार्च से मीन राशि में सूर्य ग्रह प्रवेश कर गया। ऐसी स्थिति में 14 अप्रैल तक इसी राशि में रहने के कारण खरमास लगा हुआ है। ऐसे में शादी-समारोह समेत सभी मांगलिक कार्य नहीं हो सकेंगे,  लेकिन 15 अप्रैल से फिर शुभ मुहूर्त शुरू हो रहे हैं।

अप्रैल में 10 शुभ मुहूर्त

  • 15 अप्रैल (दिन शुक्रवार)
  • 16 अप्रैल (दिन शनिवार)
  • 17 अप्रैल (दिन रविवार)
  • 19 अप्रै (दिन मंगलवार)
  • 20 अप्रैल (दिन बुधवार)
  • 21 अप्रैल (दिन बृहस्पतिवार)
  • 22 अप्रैल ( दिन शुक्रवार)
  • 23 अप्रैल (दिन शनिवार)
  • 24 अप्रैल (दिन रविवार)
  • 27 अप्रैल (दिन बुधवार)
  • हिन्दू परिवारों में शादी विवाह जैसे समारोह बगैर पत्री को दिखवाए नहीं कराए जाते हैं। विवाह जैसे मांगलिक कार्यों में हिन्दू परिवारों में पंड़ित या ब्राहमणों से तमाम मुहुर्त आदि की जानकारी लेने के बाद ही आयोजन किए जाते हैं। यदि तनिक भी कोई शंका होती है तो फिर मांगलिक कार्य शंका का निवारण होने तक टाल दिया जाता है। जहां तक खरमास है तो इसमें किसी भी प्रकार का मांगलिक कार्य नहीं कराया जाता है। खरमास काल को निषेध माना जाता है। शादी जैसे मांगलिक कार्य के लिए 15 अप्रैल से उपयुक्त काल माना जा रहा है।
  • @Back Home
Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.