15 किलो का चांदी का चंदोया, श्री 1008 शांतिनाथ दिगंबर जैन पंचायती मंदिर असौड़ा हाउस में बुधवार को  प्रातः  परम पूज्य आचार्य श्री ज्ञय सागर जी मुनिराज के सानिध्य में मंदिर जी में भगवान जी के गर्भ गृह में 15किलो का चांदी का चंदोया लगवाया गया जिसमें चंदोये के मध्य में 1 किलो चांदी का छत्र लगाया गया एवं 24 छत्र 24 परिवारों द्वारा लगाए गए। इसके पश्चात श्री जी का अभिषेक एवं शांतिधारा आचार्य श्री के सानिध्य में ही हुई जिसमे शांतिधारा का सौभाग्य अनुराग मनोज एवं उमेश को प्राप्त हुआ। इसी के साथ महावीर स्वामी जन्म कल्याणक महोत्सव की पूर्व संध्या पर साईं 7:00 से असौड़ा हाउस में भव्य रुप से भक्तांबर एवं णमोकार मंत्र का पाठ किया गया उसी के साथ मुक्ताकाश नाट्य संस्थान की प्रस्तुति ” नाटक भरत बाहुबली ” कराया गया जिसमें मुख्य कलाकार आकाशदीप ने नाटिका से बताया कि जैन धर्म के प्रथम तीर्थंकर ऋषभनाथ के दो पुत्र हुए भरत और बाहुबली। भरत के नाम पर ही इस देश का नाम भारत रखा गया था। राज्याधिकार के लिए बाहुबली और भरत में युद्ध हुआ। बाहुबली ने युद्ध में भरत को परास्त कर दिया। बाहुबली को छोड़कर सभी भाइयों ने राजा भरत की अधीनता स्वीकार कर ली। भरत का बाहुबली से मल्ल युद्ध हुआ जिसमें बाहुबली जीत गए। ऐसे में बाहुबली के मन में विरक्ति का भाव आ गया और उन्होंने सोचा कि मैंने राज्य के लिए अपने ही बड़े भाई को हराया। उन्होंने जीतने के बाद भी भरत को अपना राज्य दे दिया। इस तरह भरत चक्रवर्ती सम्राट बन गए और बाहुबली जी वैराग्य की ओर मुड़ लिए। जिसमें कई कलाकारों ने बहुत ही शानदार प्रदर्शन कर श्रद्धालुओं की तालियां बटोरी। स्वागत अध्यक्ष  एमएस जैन रहे व  चित्र अनावरण नीरज जैन-पंकज जैन, दीप प्रज्वलन सचिन ने किया। मुख्य अतिथि के रुप में अमित अग्रवाल विधायक, मुकेश सिंगल, सुरेश जैन ऋतुराज एवं कमल दत्त शर्मा आदि उपस्थित रहे।  रात्रि में पंच परमेश्ठी एवं महावीर स्वामी की आरती से सैकड़ों श्रद्धालुओं ने बड़े ही भक्ति भाव से कार्यक्रम का समापन किया मुख्य सहयोगी रमेश नवीन विपुल संजय राकेश शोभा पूनम सौम्या शिल्पी रचित प्रतीक रहे।  अध्यक्ष सुभाष विपिन कपिल ने  महावीर जयंती के दिन होने वाली प्रथम भव्य शोभायात्रा के पात्रों का चयन बोलियों द्वारा कराया गया। यह जानकारी प्रचार संयोजक राकेश जैन ने दी।

@Back Home

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.