अचानक बरसने लगे बम

Category: विदेश- अचानक बरसने लगे बम, यूक्रेनी सरकार का दावा है कि सुमी में रूसी सेना ने देर रात रिहायशी इलाकों में 500 किलो के बम गिराए. इसमें 2 बच्चों समेत 18 लोगों की मौत हो गई, बता दें कि सुमी में करीब 700 भारतीय छात्र भी फंसे हैं. ताजा अपडेट के मुताबिक, मेडिकल छात्रों को वहां से निकाल लिया गया है, उनके साथ रेड क्रास और भारतीय दूतावास के लोग है। रूस की सीमा से महज 60 किलोमीटर दूर सुमी में दोनों देशों की सेनाओं में भारी संघर्ष हो रहा है। यहां से करीब 7 सौ भारतीय छात्र-छात्राओं को निकालने की पूरी तैयारी भी कर ली गयी थी, लेकिन अचानक रूस ने ताजा हमला कर दिया। अचानक बरसने लगे बम, जिसके बाद यूक्रेनी अधिकारियों ने सभी को बस से नीचे उतार दिया ताकि सुरक्षित रह सकें.

जंग के बीच कीव में रूसी सेना के बड़े हमले का अलर्ट है। यूक्रेन का कहना है कि रूस का वैगनर दस्ता कीव में घुस सकता है. वैगनर दस्ते में भाड़े के लड़ाके शामिल हैं। कीव क्षेत्र के नॉर्थ और नॉर्थ वेस्ट में रूसी फौज मौजूद है. बाकी पूर्व से भी रूसी फोर्स आने की आशंका है। यूक्रेन के पूर्व राष्ट्रपति Viktor Yanukovych ने यूक्रेन के मौजूदा राष्ट्रपति जेलेंस्की को घेरा है। Yanukovych ने कहा कि जेलेंस्की को किसी भी तरह शांति समझौता करके इस रक्तपात को रोकना चाहिए. इस बीच संयुक्त राष्ट्र की तरफ से बताया गया है कि यूक्रेन से भागे रिफ्यूजियों की संख्या आज या कल में 20 लाख पहुंच सकती है. फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने रूस-यूक्रेन की जंग के बीच बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि  रूस और रूस के लोगों का सम्मान करना जरूरी है। वह बोले कि अगर रूस ‘दुनिया की महान वास्तुकला का हिस्सा नहीं होगा तो ‘स्थाई शांति की बात करना असंभव होगा. बता दें कि अबतक जंग के मसले पर फ्रांस का रवैया तल्ख था। लेकिन अब उसमें नरमी दिख रही है.हाल ही में रूस ने सीजफायर का ऐलान किया था। इसके तहत डोनेत्स्क शहर के मारियूपोल में ह्यूमन कॉरिडोर बनाया गया था. इसमें जंग में फंसे लोगों को निकालने की जद्दोजहद की गई थी। इसे लेकर अब रूस ने कहा है कि उन्होंने यूक्रेन की सहायता के बिना 44,187 बच्चों सहित सैन्य अभियान क्षेत्रों से 173,773 लोगों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया है।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.