सीसीयूएस में अब बायोमीट्रिक हाजरी, चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय में पहली जून से सभी अधिकारियों व कर्मचारियों की बायामीट्रिक पद्वति से हाजरी भरी जाया करेगी। यह जानकारी अधिकृत सूत्रों ने दी है। उन्होंने बताया कि  उत्तर प्रदेश के सभी राज्य विश्वविद्यालयों में शैक्षिक और गैर शैक्षणिक कर्मचारियों की उपस्थिति अब बायोमीट्रिक मशीन से दर्ज होगी। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने सभी राज्य विवि के कुलपतियों को बायोमीट्रिक उपस्थिति अनिवार्य रूप से लागू करने के निर्देश दिए हैं। राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों में ऐसी बायोमीट्रिक मशीन लगाने के निर्देश दिए हैं जिसमें चेहरा और अंगूठा दोनों की पहचान करने की क्षमता हो। उन्होंने उपस्थिति केंद्रीय सर्वर पर दर्ज करने और बायोमीट्रिक उपस्थिति के रिकॉर्ड के अनुसार ही वेतन भुगतान के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी विश्वविद्यालयों में 20 मई तक व्यवस्था को लागू कर जून महीने का वेतन इसी प्रणाली से जारी करने के निर्देश दिए हैं।

सुधरेगी बेसिक की दिशा दशा

कोरोना काल के बाद नियमित रूप से स्कूल खुलने लगे हैं जिससे बच्चों में उत्साह है। अब बेसिक शिक्षा विभाग का पूरा जोर पढ़ाई पर है। इसके लिए स्कूलों में पढ़ाई के तरीकों के साथ ही समय भी तय किया गया है। सप्ताह में 45 घंटे पढ़ाई का चार्ट तैयार किया गया है जिसे स्कूलों में लागू कर दिया गया। पढ़ाई के लिए कार्ययोजना तैयार कर शिक्षा देने पर जोर दिया गया है। इसके साथ ही जिले के 11 हजार के करीब शिक्षकों और शिक्षामित्रों को प्रशिक्षण देकर भी नए तरीके से पढ़ाई के बारे में जानकारी दी गई है। बेसिक शिक्षा परिषद ने तय किया है कि प्राथमिक विद्यालयों में 200 कार्यदिवस या 800 घंटे पढ़ाई हो। इसी प्रकार उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 220 कार्य दिवस या 1000 घंटे पठन-पाठन हो। इसके लिए तय किया गया है कि सप्ताह में शिक्षण कार्य न्यूनतम 45 घंटे हो। कार्यदिवस या घंटे बढ़ाए जाने के पीछे शासन की मंशा परिषदीय स्कूलों के बच्चों की छूटी हुई पढ़ाई पूरी कराना है।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.