क्लीनिकों पर ताले-मरीज हलकान

क्लीनिकों पर ताले-मरीज हलकान, राजस्थान के दौसा में महिला चिकित्सक डा. अर्चना शर्मा सोसाइट मामले कसूरवारों को सजा दिलाए जाने की मांग को लेकर एक दिनी हड़ताल पर गए आईएमए से जुड़े तमाम चिकित्सकों के प्रतिष्ठानों पर शुक्रवार को ताले लटके रहे। जिसकी वजह से मरीज हलकान रहे। क्लीनिकों पर ताले-मरीज हलकान, जिन मरीजों को डाक्टरों की हड़ताल की जानकारी नहीं थी, वो उनके क्लीनिक पर जब पहुंचे तो ताला देखकर परेशान हो गए। हालांकि बाद में वो लौट गए। इससे अलावा आईएमए सभागर में शुक्रवार को सुबह इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की मेरठ शाखा की अध्यक्ष डा. रेनू भगत की अध्यक्षता व डा. अनुपम सिरोही के संचालन में पदाधिकारियों की एक इमरजैंसी बैठक भी बुलायी गयी।इस बैठक में शहर के तमाम सीनियर डाक्टरों के अलावा आईएमए के तमाम पूर्व व वर्तमान पदाधिकारी भी मौजूद थे। पूर्व आई एम में अध्यक्ष डॉक्टर अनिल कपूर ने ऐसे मामले में आम जनता जुडिशरी पुलिस, वकील आदि को संवेदनशील बनाने तथा पुलिस को ऐसी स्थिति में सही नियम कानून याद रखने वह थानों में अंकित करने की बात कही। डॉ तनुराज सिरोही ने इस प्रकरण को प्रेरणा स्रोत लेकर निर्भयl ऐक्ट के स्वरूप डाॅ अर्चना शर्मा एक्ट बनाने की बात कही। डॉ प्रियंका, डॉक्टर भारती महेश्वरी, डॉ मृदुला त्यागी, डॉक्टर सुशील गुप्ता, डॉक्टर एस के त्यागी, डॉक्टर शिशिर जैन, डॉक्टर संदीप जैन, डॉ गौरव मिश्रा,डॉक्टर भूपेंद्र चौधरी,डॉक्टर जेबी चिकारा, डॉ ऋषि भाटिया तथा डॉक्टर उमंग अरोरा आदि ने भी अपने विचार व्यक्त किए। इस प्रकरण को लेकर सारे चिकित्सा जगत में रोष था। बैठक में तकरीबन 400 चिकित्सकों ने भाग लिया l बैठक उपरांत आई एम ए के प्रतिनिधि मंडल ने जिलाधिकारी को उनके कैंप कार्यालय में जाकर इस संबंध में एक ज्ञापन सौंपा l आईएमए के पूर्व सचिव डा. अनिल नौसरान भी शामिल रहे।

जिसमें तय किया गया कि एक दिनी हड़ताल को सख्ती से लागू किया जाएगा। इसके अलावा आईएमए के प्रतिनिधि मंडल ने जिला प्रशासन के माध्यम से केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री को एक ज्ञापन भी भेजा। इस ज्ञापन में आईएमए की ओर से डा. अर्चना शर्मा की मौत के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गयी है। @Back To Home

 

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.