डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी होली के रंगों से सराबाेर

डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी होली के रंगों से सराबाेर, प्रदेश भाजपा के पूर्व अध्यक्ष व पूर्व मंत्री डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी मंगलवार को होली के रंगों से सराबोर हो गए। वह बतौर मुख्य अतिथि योग विज्ञान संस्थान  पूर्वी जिला मेरठ इकाई द्वारा होली के पावन पर्व के अवसर पर फाग फुहार का रंग बिरंगा कार्यक्रम में पहुंचे थे। जहां नृत्य, हास्य, भजन, रंग, मस्ती एवं फूलों से होली खेलते हुए यह कार्यक्रम संतोष वाटिका जगन्नाथ पुरी केंद्र पर संपन्न हुआ। इस मौके पर डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने कहा कि इस बार होली का रंग अधिक गाढ़ा है। आयोजन से जुड़े सामाजिक कार्यकर्ता विपुल सिंहल ने बताया कि कार्यक्रम की अध्यक्षता श्रीमती अक्षमा त्यागी जिला मंत्री द्वारा की गई। कार्यक्रम का संचालन सुनील सैन एवं इंदिरा राजवंशी द्वारा संयुक्त रूप से किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भाजपा, पूर्व विधायक मा० श्री लक्ष्मी कान्त वाजपेयी जी रहे।
पूर्वी जिले के सभी 11 केंद्रों के साधकों ने बड़ी आत्मीयता एवं उल्लास से इसमें सहभागिता की। कार्यक्रम की शुरुआत डा‍. लक्ष्मी कान्त वाजपेयी  द्वारा द्वीप प्रज्वलित कर व सोनल सिंघल द्वारा शंख ध्वनि से की गई। संस्था के संचालक सुनील सैन द्वारा ओम की ध्वनि एवं गायत्री मंत्र का उच्चारण कर प्राणायाम एवं हंसी का अभ्यास कराया गया। डा. लक्ष्मी कान्त वाजपेयी  ने साधको को आश्वासन दिया कि मेरठ कॉलेज में लगने वाले योग विज्ञान संस्था के केंद्र को पुनः प्रधानाचार्य से वार्ता कर शुरू किया जाएगा। डा. वाजपेयी  ने सभी नागरिकों से नियमित रूप से सुबह उठकर योग करने को प्रेरित किया। होली के पर्व पर हर्बल रंगों के इस्तेमाल करने को कहा।
कार्यक्रम में सांस्कृतिक रंग बिखेरते हुए सोनल, सारिका, किरण ने हास्य नाटिका प्रस्तुत की। मीनू शर्मा केंद्र प्रमुख बीएवी केंद्र एवं उनकी टीम ने नृत्य नाटिका से सबका मन मोह लिया। डा. लक्ष्मीकांत वाजपेयी होली के रंगों से सराबाेर, लाल कुर्ती केंद्र की शीन, मणिका ने नृत्य एवं बबली तथा आशा ने भजन प्रस्तुत किया। आर्य समाज बुढ़ाना गेट केंद्र की रेखा जी ने सुंदर होली भजन सुना कर भाव विभोर किया। होली के रंग बिरंगे ढंग से वरिष्ठ नागरिकों को योग करने हेतु प्रेरित करने हेतु नाटिका प्रीति, रितु ,नीता, साधना, सुनीता, राधा द्वारा प्रस्तुत की गई। कार्यक्रम के समापन से पूर्व फूलों से होली खेली गई, जिसमें सैकड़ों साधकों द्वारा एक दूसरे पर फूलों की बारिश करते हुए फाग फुहार का समा बांधा। कार्यक्रम को सफल बनाने में राजेंद्र कुमार, विपुल सिंघल, सारिका, बीपी त्यागी, सोनल, मुकुल का विशेष सहयोग रहा। @Back To Home

 

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.