एक्सप्रेस वे पर रोक-फिर भी बेरोकटोक

एक्सप्रेस वे पर रोक-फिर भी बेरोकटोक, मेरठ दिल्ली एक्सप्रेस वे पर दाे पहिया वाहनों की आवाजाही पर सख्ती से रोक के आदेश हैं लेकिन इसक बावजूद यहां बगैर किसी रोक टोक के दो पहिया वाहन फर्राटा भर रहे हैं। पिछले दिनाें एक्सप्रेस वे पर  हादसों में कई की मौत के बाद  दो पहिया वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गयी,  लेकिन हैरानी तो इस बात की है कि प्रशासन के आला अधिकारियों द्वारा दिए गए दो पहिया वाहनों पर रोक के आदेश हवा हो गए हैं, रोक के आदेश के बाद भी एक्सप्रेस वे पर दो पहिया वाहन बगैर किसी रोक टोक के फर्राटा भर रहे हैं। यहां पर तैनात मार्शल भी उन्हें रोकने या टोकने की जहमत नहीं उठा रहे हैं। एक्सप्रेस वे पर रोक-फिर भी बेरोकटोक, दरअसल एक्सप्रेस वे जब बनकर तैयार हो गया था और इसे आवाजाही के लिए खोल दिया गया तो आवाजाही की सबसे पहले शुरूआत दो पहिया वाहन चालकों ने की। एक्सप्रेस वे पर टोल वसूली शुरू होने से पहले हुए हादसों की यदि बात की जाए तो पुलिस रिकार्ड में यहां अब तक करीब दर्जन भर से ज्यादा दो पहिया वाहन चालक हादसों में जान गंवा चुके हैं। मेरठ से दिल्ली के यदि सराय काले खां तक की बात की जाए तो यह आंकड़ा बहुत ज्यादा है। दो पहिया वाहनों को रोकने के लिए पुलिस तैनाती की भी बात कही गयी थी, लेकिन पुलिस वाले भी नजर नहीं आते। शुक्रवार से यहां टोल वसूली भी शुरू हो गयी है।

@Back To Home

 

 

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.