गल्तियां सिखाती हैं हमें, गलतियां सिखाती हैं हमें बहुत कुछ: अनामिका यदुवंशी, मेरठ। गल्तियों से हमें बहुत कुछ साखने को मिलता है। प्रशंसा आपको आगे बढने की प्रवृति पर ब्रेक लगा देती है। आलोचना आपको आपकी कमी बताती है, कमियों को दूर करके सफलता के नए आयाम गढ सकते हैं। तारीफ करने वाले बहुत लोग मिल जाते हैं, तारीफ हमें अच्छी भी लगती है। गलती बताने वाले बहुत कम लोग होते हैं। गलती पता लगने के बाद भी यदि हमने अपने अंदर सुधार नहीं किया तो हम कभी सफल नहीं हो सकते हैं। जो व्यवहार दूसरे से हम चाहते हैं वैसा ही व्यवहार हमें दूसरे के साथ करना चाहिए। यह बात चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय स्थित तिलक पत्रकारिता एवं जनसंचार स्कूल में वीकेंड अभिव्यक्ति के अंतर्गत आयोजित विशेष व्याख्यान के दौरान मोटीवेशनल ट्रेनर अनामिका यदुवंशी ने कही।
अनामिका यदुवंशी ने कहा कि भावनाओं के प्रबंधन पर जोर देते हुए कहा समय और आवश्यकतानुसार भावनाओं का प्रकटीकरण करना चाहिए। हम क्या महसूस करते हैं, इससे हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पडता है। इमोशन भी हमारे जीवन को प्रभावित करते हैं। वार्ता के दौरान हमें दूसरों के भाव को समझते हुए अपने व्यवहार और हाव-भाव को बदलना पडता है। अच्छा वक्ता होने के लिए अच्छा श्रोता होना बहुत जरूरी है। आईक्यू से अधिक ईक्यू हमारे जीवन की सफलता को निर्धारित करती है। भावनाओं को पहचानना और उनमें सामंजस्य बनाना हमें सफलता की गारंटी देता है। अच्छा सुनना और उसको समझना बहुत जरूरी है। उन्होंने जीवन में सफल होने के लिए सात बातों को महत्वपूर्ण बताया:-
1- सेल्फ अवेयरनेस इम्प्रूव
2- हाऊ यू फीलिंग
3- नो अबाउट दिस
4- इमोशनल चैनेलाइज
5- हाऊ टू वर्क
6- लर्न टू रीड इमोशनस
7- इप्रूव योर इमोशनस वैल्यू
कार्यक्रम संयोजक अमरीश पाठक ने सभी का स्वागत किया। तिलक पत्रकारिता एवं जनसंचार स्कूल के निदेशक प्रो0 प्रशांत कुमार ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का संचालन छात्र अमन शर्मा ने किया। डिबेट प्रतियोगिता में भरत अधाना व वरूणिका विजेता रहे तथा क्विज प्रतियोगिता में गोस-ए-आजम, विशू सिंघल, हर्ष यादव, धीरज विजेता रहे। इस दौरान डॉ0 मनोज कुमार श्रीवास्तव, अजय मित्तल, लव कुमार आदि मौजूद रहे।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.