बगैर चीर फाड़ दिल का आपरेशन,

लाल लाजपत राय स्मारक मेडिकल कालेज के सुपरस्पेशलिटी ब्लाक के कार्डियोलॉजी विभाग के सहायक आचार्य डॉ शशांक पाण्डेय (एम बी बी एस, एम डी, डी एम कॉर्डियोलॉजी), कार्डियोलॉजी विभाग के सहायक आचार्य डॉ सी बी पाण्डेय (एम बी बी एस, एम डी, डी एम कॉर्डियोलॉजी) तथा कार्डियोलॉजी विभाग की सहायक आचार्य डॉ मुनेश तोमर (एम बी बी एस, एम डी, डी एम पीडियाट्रिक कॉर्डियोलॉजी) ने आज आइशा नाम की मरीज के हृदय के वाल्व का बिना चिर फाड़ के बलून विधि द्वारा सफल आपरेशन किया। मेडिकल के मीडिया प्रभारी डॉ वी डी पाण्डेय ने बताया कि यह ऑपरेशन मेडिकल कालेज मेरठ पहली बार हुआ है। आइशा अब बिल्कुल स्वस्थ हैं उनके हृदय के वाल्व अब सुचारू रूप से कार्य कर रहे हैं और वह अब बिल्कुल स्वस्थ हैं। कार्डियोलॉजी विभाग की सफल आपरेशन काे अंजाम देने वाली चिकित्सकीय टीम को मेडिकल के प्राचार्य डा आरसी गुप्ता ने बधाई दी है। उन्होंने कहा कि एलएलआरएम मेडिकल के स्टाफ के लिए मरीजों को जटिल व सुरक्षित स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराकर खुद पर फक्र करने का यह कोई पहला मौका नहीं है। इससे पूर्व भी एलएलआरएम के चिकित्सकों की प्रतिभा का लोहा दुनिया मान चुकी है। काेरोना की पहली, दूसरी व तीसरी लहर में मेडिकल के चिकित्सकों व पैरा मेडिकल स्टाफ ने शानदार स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करायीं। बेहद सीमित संसाधनों के बावजूद मरीजों का जीवन बचाया। मेडिकल स्टाफ की बदौलत ही संक्रमण की दर पर काबू पाया जा सका। मरीजों का डेथ रेट बेहद डाउन किया गया। शत प्रतिशत संक्रमित मरीज यहां से पूरी तरह से स्वस्थ्य होकर अपने परिवार में वापस लौटे। कुछ ही मामले ऐसे थे जो लास्ट स्टेज पर दूसरे प्राइवेट अस्पतालों से मेडिकल भेजे गए, ऐसे मरीजों की हालत बेहद नाजुक थी, जिसकी वजह से कुछ को बचाया नहीं जा सका। डा आरसी गुप्ता ने बताया कि आने वाले दिनो में एलएलआरएम मेडिकल स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने के मामले में शानदार कीर्तिमान स्थापित करेगा।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.