कारोबारी प्रतिष्ठनों पर इनकम टैक्स का छापा

कारोबारी प्रतिष्ठानों पर इनकम टैक्स का छापा, मेरठ में दिल्ली रोड स्थित हरीश प्लाईवुड के प्रतिष्ठान और मालिक के आवास पर मंगलवार की सुबह से आयकर विभाग की कार्रवाई चल रही है। विभागीय सूत्रों के अनुसार टैक्स चोरी के मामले में गाजियाबाद और देहरादून के सात-आठ अधिकारी हरीश प्लाइवुड, इनसे जुड़े अन्य प्रतिष्ठान व घर पर दस्तावेजों को खंगालने में जुटे हुए हैं। बंद कमरे के अंदर कार्रवाई चल रही है। अभी ज्‍यादा विवरण नहीं पाया है। वहीं परतापुर हवाई पट्टी के करीब एचआर केमिकल फैक्ट्री में भी इनकम टैक्स की छापेमारी चल रही है। देहरादून और गाजियाबाद की आयकर टीम छापेमारी कर रहीं हैं। हरीश प्लाईवुड के मालिक मनीष शारदा ही नहीं बल्कि उनके पार्टनर बताए जा रहे राजीव अग्रवाल के भी कई ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा पड़ा है। जानकारी मिली है कि सुबह करीब छह बजे इनकम टैक्स अधिकारियों का काफिला राजीव अग्रवाल व मनीष शारदा के बाईपास स्थित एक बड़ी कालोनी में मौजूद आवास गोदाम व दूसरे ठिकानों पर पहुंचा। कुछ देर ही मिनटों में वहां भारी पुलिस फोर्स भी पहुंच गयी। इस प्रकार की कार्रवाई में आमतौर पर जैसा हमेशा होता है, वैसा ही मगलवार को भी हुआ। घर व दूसरे ठिकानों पर भीतर दाखिल होने के बाद गेट को भीतर से लॉक कर दिया गया। किसी को भी न तो भीतर जाने की इजाजत थी न ही बाहर आने की अनुमति दी गयी। सभी ठिकानों पर पुलिस का पहरा बैठा दिया गया। दोपहर करीब दो बजे तक तमाम अधिकारी घर व गोदाम पर ही जमे थे। इस कार्रवाई के बाद शहर के दूसरे कारोबारियों में हड‍़कंप मचा रहा। क्या चल रहा है इसकी जानकारी के लिए बैचेन नजर आए।

करोड़ों के बंगले से आए थे चर्चा में

जानकारों की मानें तो प्लाइवुड कारोबारी पिछले दिनों अपने करोड़ों कीमत के बंगले को लेकर खासे चर्चा मेंं आ गए थे। माना जा रहा है कि उन चर्चाओं की भनक आयकर अधिकारियों के कानों में भी पड़ी थीं, जिसके बाद से विभाग की मशीनरी ने कारोबारी व उनके पार्टनर के की कुंडली खंगाले में जुट गयी।

बनायी दूरी

प्लाईवुड कारोबारी व उनके पार्टनर की भाजपा व व्यापार संघ के तमाम बड़े नेताओं में अच्छी खासी उठ बैठ है। लेकिन इनकम टैक्स की कार्रवाई के बाद सभी ने अपने दूरी बना ली। यहां तक कि कोई भी इस को लेकर प्रतिक्रिया देने तक को तैयार नहीं था। तमाम लोग कन्नी काटते नजर आए।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.