नागेन्द्र को राहत से मिनिस्ट्री की ना

नागेन्द्र को राहत से मिनिस्ट्री की ना, सीईओ कैंट को राहत नहीं, देना ही होगा चार्ज, कैंट बोर्ड के सीईओ नागेन्द्र नाथ को मंत्रालय से किसी प्रकार की राहत नहीं मिली है। इतना ही नहीं उन्हें तत्काल डीईओ को चार्ज सौंपने के निर्देश दिए हैं। पता चला है कि चार्ज के लिए बुधवार को डीईओ कैंट बोर्ड कार्यालय भी पहुंचे थे, लेकिन चार्ज हो नहीं सका। हालांकि बाद में  काफी देर बाद उन्होंने चार्ज दे दिया। लेकिन इससे पहले के घटनाक्रम खासतौर से तवादला आदेश आने के बाद की बात की जाए तो वह तेजी से बदलता रहा। एक बारंगी को स्टाफ व सदस्यों में खासम खास गिने जाने वाले खेमे को लग रहा था कि नागेन्द्र यूं ही अभी यहीं रूके रहेंगे। लेकिन बुधवार की दोपहर उनके लिए झटका भरा समाचार लेकर आयी।

इस बीच कैंट बोर्ड में जनता के प्रतिनिधि डा. सतीश शर्मा ने जानकारी दी कि उन्होंने डीजी डिफैंस से सीईओ नागेन्द्र नाथ का तत्काल चार्ज कराए जाने का आग्रह किया है। डा. शर्मा ने डीजी से आग्रह किया कि पब्लिक के काम करने वाले किसी काबिल अधिकारी को मेरठ में भेजा जाए। उन्होंने सीईओ के तौर पर नागेन्द्र नाथ पर पब्लिक के बजाए कुछ खास के हाथों में खेलने के गंभीर आरोप लगाए।
कैंट बोर्ड सन्नाटा: सीईओ नागेन्द्र नाथ के चार्ज को लेकर जो कुछ भी घटनाक्रम चल रहा है उसको लेकर कैंट बोर्ड के स्टाफ में सन्नाटा पसरा हुआ है। यूं कहने को पूरा स्टाफ आफिस में है, लेकिन वहां का माहौल पिन ड्राप साइलेंट सरीखा है। सवालिया नजरों से एक दूसरे से यही पूछ रहे हैं चार्ज होगा या नहीं। रूकेंगे या जाना ही होगा। यदि गए तो उनके करीबियों में शुमार कैंट बोर्ड के स्टाफ के साथ नए अफसर का कैसा रवैया होगा। सवाल बहुत हैं, लेकिन जवाब को लेकर फिलहाल सस्पेंस बना रहा। यह सस्पेंस तभी खत्म हुआ जब चार्ज हो गया।

क्या ले पाएंगे चार्ज डीईओ

मेरठ छावनी से लेकर दिल्ली तक एक ही सवाल कौंध रहा है कि क्या डीईओ हरेन्द्र चौधरी कैंट बोर्ड के सीईओ से चार्ज ले पाएंगे। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि यदि डीजी डिफैंस का रवैया सख्त है और उन्होंने तत्काल चार्ज के आदेश कर दिए हैं जैसा की सुनने में आ रहा है कि एक लैटर भी चार्ज को लेकर मंत्रालय से भेजा गया है, उसके बाद इफ बट की कोई गुंजाइश नहीं रह जाती। हर दशा में चार्ज देना होगा ही।

डोर टू डोर ठेकेदार को भगाया,


ईमानदार छवि के जनता के प्रतिनिधि व वरिष्ठ भाजपा नेता डा. सतीश शर्मा पर डोरे डालने को पहुंचे कैंट क्षेत्र के डोर टू डोर ठेकेदार को दौड़ा दिया गया। उसे उल्टे पांव भाग दिया गया। डा. सतीश शर्मा ने जानकारी दी कि कैंट में घर-घर से कूडा उठाने वाले ठेकेदार उनके यहां पहुंचे थे। जो शख्स पहुंचा था, वो चाहता था कि डा. सतीश शर्मा उसे सेवा का एक मौका दें, लेकिन उसको उसकी यह कोशिश भारी पड़ गयी। डा. शर्मा ने उसे उल्टे पांव दौड़ा दिया।

@HOME

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.