नया वायरस-शंघाई में पहली मौत, शंघाई में सख्त लॉकडाउन के बीच बढ़ते संक्रमण के दौर में पहली मौत दर्ज हुई है. कोविड की चपेट में आने के बाद तीन बुजुर्गों ने अस्पताल में दम तोड़ दिया है.चीन का कहना है कि पिछले महीने शंघाई में लागू किए गए कोविड लॉकडाउन के दौरान तीन लोगों की मौत हुई है. हालांकि यहां हर दिन हजारों लोग कोरोना के  वैरिएंट से संक्रमित हो रहे हैं. अधिकारियों ने बताया है कि इन तीनों लोंगों की उम्र 89 से 91 साल के बीच थी. और तीनों पहले से ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं झेल रहे थे. इससे पहले चीन में कोविड-19 की वजह से आखिरी मौत 19 मार्च को उत्तर-पूर्वी जिलिन प्रांत में दर्ज की गई थी. वो तकरीबन एक साल से ज्यादा के वक्त में पहली मौत थी. चीन जीरो कोविड नीति के तहत सख्त तालाबंदी पर जोर देता आया है. हर दिन बड़ी संख्या में लोगों के टेस्ट और लंबे समय के लिए लोगों को क्वारंटीन करके चीन ने अपने देश में बीमारी को बड़े पैमाने पर फैलने से रोका था. ये तब की बात है जब पूरी दुनिया कोरोना से कराह रही थी. यह भी पढ़ेंः चीन सरकार को परेशान करता शंघाई का कोविड हालांकि कुछ लोग देश में टीकाकरण के दावे पर अब उंगली उठा रहे हैं, खासतौर से देश में बुजुर्गों की बड़ी आबादी के बीच. अगर तुलना करके देखें तो हांगकांग में कोविड 19 के जनवरी में सिर उठाने के बाद अब तक 9 हजार लोगों की मौत दर्ज की गई है. सोशल मीडिया पर डाली जा रही अपुष्ट खबरों में बहुत सी ऐसी मौतों का दावा किया जा रहा है, जो आधिकारिक रूप से दर्ज नहीं है. हालांकि ऐसी खबरों बाद में हटा ली गई हैं. जिन तीन लोगों की मौत दर्ज हुई उनके बारे में आधिकारिक बयान में कहा गया है, “अस्पताल जाने के बाद मामला गंभीर हुआ और उनकी हालत बिगड़ती चली गई” शहर के स्वास्थ्य आयुक्त ने रविवार को बताया कि 60 साल से ऊपर की उम्र वाले 62 फीसदी लोगों को टीके की दो खुराक दी गई है

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.