अफसरों के रवैये पर डीएम सख्त, विकास कार्यों पर चर्चा के लिए बुलायी गयी बैठक से जिलाधिकारी ने बैठक में बिना बताये पूर्व अनुमति के अनुपस्थित रहने पर प्रोजेक्ट मैनेजर सेतू निगम, जिला ग्रामोद्योग अधिकारी, अधिशासी अभियंता सिडको, अधिशासी अभियंता पैकफेड, अधिशासी अभियंता पुलिस आवास निगम कुल पांच अधिकारियों से स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश दिये। विकास भवन सभागार में जनपद स्तरीय विकास कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुये जिलाधिकारी दीपक मीणा ने अधिकारियों से कहा कि वह शासन की मंशा के अनुरूप कार्य करें, जनता से मधुर व्यवहार रखे, जनता की समस्याओ का निस्तारण प्राथमिकता पर व समय से कराना सुनिश्चित करे। उन्होने निर्माण कार्यों की गुणवत्ता व समयबद्धता का विशेष ध्यान देने तथा विभिन्न स्तर के प्रोजेक्ट के लिए विभिन्न जांच कमेटी बनाये जाने के लिए कहा। बैठक में बिना बताये अनुपस्थित रहने पर पांच अधिकारियों के विरूद्ध स्पष्टीकरण तलब करने के निर्देश भी दिये।
जिलाधिकारी ने कहा कि गडडा मुक्ति की कार्य योजना को मूर्त रूप दिया जाये। उन्होने कहा कि अगर वह व्हाटस ऐप पर कोई पत्र, मैसेज या मैटर किसी अधिकारी को प्रंेषित करते है तो उसका उत्तर संबंधित अधिकारी आवश्यक रूप से दें।  जिलाधिकारी दीपक मीणा ने कहा कि अधिकारी अपने कार्यालय में शिकायती पत्रो का रजिस्टर अलग से बनाये तथा शिकायती पत्रों का निस्तारण गुणवत्तापरक व समयबद्ध ढग से कराना सुनिश्चित करे। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि तालाबो में पानी रहे यह सुनिश्चित किया जाये इसलिए सरकारी टयूबवैल को सही रखा जाये। उन्होने कहा कि वृक्षारोपण अभियान के लिए लगाये जाने वाले पौधे अपेक्षाकृत 04 से 05 फीट के होने चाहिए इस बात पर भी जोर दिया जाये।
उन्होने बेसिक शिक्षा अधिकारी से कहा कि वह विद्यालयो के पंजीकरण को ठीक प्रकार से चैक करे। इस अवसर पर सीडीओ शशांक चैधरी, प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 पूजा शर्मा, उप निदेशक कृषि ब्रजेश चन्द्र, उपायुक्त उद्योग वी0के0 कौशल सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *