शहीदों की मजारों पर अब नहीं...

शहीदों की मजारों पर अब नहीं…, शहीदों की मजारों पर लगते हैं हर बरस मेले वतन पर मरने वालों का यही बाकि निशां होगा, यह शेर वर्तमान माहौल में प्रासंगित बिलकुल नहीं नजर आता। देश के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की गवाह रही मेरठ की भूमि और 23 मार्च का वो मनहूस दिन जब लाहौर की कोट लखपत जेल में शहीदे आजम भगत सिंह समेत राजगुरू व सुखदेव को फांसी दी गयी थी। लेकिन इससे भी बड़ा दुख यह प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की गवाह बनी मेरठ भूमि पर आज के दिन इन शहीदों को याद करने वालों का खासा टोटा रहा। यह सब कम से कम मेरठ में नहीं होना चाहिए था। अमर शहीदों को याद करने के नाम पर मुट्ठी भर लोगों का जुटना मुश्किल नजर आया। अभी उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव होकर निपटे हैं। नेताओं की चुनावी सभाओं में अपार हुजूम जमा होता था, लेकिन शहीदों को याद करने या उन्हें श्रद्धासुमन चढाने के लिए वक्त का टोटा पड़ गया या यूं कहें कि शहीदों की शाहदत को भूला दिया गया। मेरठ में शहीदों के नाम पर यूं तो काली पलटन जहां से स्वतंत्रता संग्राम की शुरूआत हुई थी वहां शहीद स्मारक है। इसके अलावा भैंसाली मैदान जहां वीर मंगल पांडे की प्रतिमा लगी है, वहां भी शहीद स्मारक है। उत्तर भारत के सबसे बड़े मेला स्थल नौचंदी मैदान में भारत माता समेत तमाम शहीदों की प्रतिमाएं लगी हैं यह बात अलग है कि इनके रखरखाव के लिए जिम्मेदार अधिकारियों को इसकी सुध लेने की फुर्सत नहीं। भैंसाली शहीद स्मारक पर धूल चढ़ी थी, स्मारक की सफाई तक नहीं की गयी। ऐसी ही स्थिति कमोवेश अन्य स्थलों की भी थी। सबसे बुरा हाल प्रतिमाओं का था। कुछ लोग हैं जो शहीदों के नाम पर वक्त भी निकालते हैं और उन्हें पुष्पांजलि भी अर्पण करते हैं। जिला स्वतंत्रा संग्राम सेनानी परिषद, पर्यावरण एवं स्वच्छता क्लब के निदेशक आयुष गोयल पीयूष गोयल व विपुल सिंघल, स. सरबजीत सिंह कपूर सरीखे लोगों ने न केवल वक्त निकाला बल्कि इन जैसे कुछ अन्य ने शहीदों को स्मरण किया। लेकिन शहीदों लिए वक्त न निकाल पाने मेरठ के नाम पर लज्जा जरूर आती है। सामाजिक संगठन तो दूर राष्ट्रवाद व सेकुलरिज्म का ठोल पीटने वाले भी नजर नहीं आए। लेकिन फिर भी कुछ उंगलियों पर गिनने लायक हैं जो लाज रखे हैं।

आप माइनॉरिटी विंग की श्रद्धांजलि के नाम पर जमा होने वालों में प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ० गुरमिन्दर सिंह, जिला अध्यक्ष डॉ अहकाम खान, जिला महासचिव फ़ारूक़ किदवई,आप के जिला महासचिव गौहर रजा सिद्दकी,आप के पूर्व जिला महासचिव मनोज हंस, जिला उपाध्यक्ष डॉ० विशाल जैन व डॉ साजिद उपस्थित रहे। @Back To Home

 

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.