शहर में मास्क को लेकर सख्ती, दिल्ली-एनसीआर के जिलों में कोरोना केस बढ़ने के कारण मेरठ में मास्क के लिए सख्ती बढ़ा दी गई है। शासन ने मेरठ सहित यूपी के कई जिलों में मास्क अनिवार्य कर दिया है। मंगलवार को पुलिस की कई टीमें शहर में जगह-जगह मास्क चैकिंग के लिए उतरी। चैकिंग के दौरान 85 फीसद लोग बिना मास्क के मिले।कोरोना के बढ़ते मामलों ने सरकार और स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ा दी हो, लेकिन जनता अभी भी कोरोना की चौथी लहर से बेखौफ घूम रही है। मेरठ में पुलिस ने मास्क चैकिंग अभियान चलाया तो अधिकांश लोग बिना मास्क के दिखे। कहने पर कि मास्क लगाना है लोग बेमतलब के जवाब पुलिसवालों को देने लगे। एक युवक ने कहा कि तेल तो है नहीं मास्क कहां से लगा लें। पुलिसकर्मियों ने लोगों से सख्ती से कहा कि बिना मास्क निकले तो जुर्माना लगेगा।

मेरठ मंडल के 6 जिलों में 321 एक्टिव केस है, 280 एक्टिव केस अकेले गौतमबुद्धनगर में हैं। जिला प्रशासन ने टीमें बनाकर उतार दी हैं जो लोगों को मास्क और कोरोना से बचाव के लिए जनजागरुक कर रही हैं। कमिश्नर सुरेंद्र सिंह ने कहा कि एहतियात जरूरी है, सावधानी का पालन करना है।

मास्क अनिवार्य रूप से लगाना है इसके लिए टीमों को लगा दिया गया है। अस्पताल भी तैयार हैं कि कोई कोविड मरीज आए तो उसको तुरंत इलाज मिले। कमिश्नर ने कहा कि स्कूलों में भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने का आदेश दिया है।

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.