सोफिया सोगम ने उठाया मदद का बीड़ा

सोफिया सोगम ने उठाया मदद का बीड़ा, जरूरतमंत छात्राओं की मदद का बीड़ा सोगम ने उठाया है। पुरातन छात्राओं की इस संस्थान की पहल वाकई काबिले तारीफ है।

सोफिया गर्ल्स मिशनरी स्कूल में छात्राओं की पुरानी किताबों को जूनियर्स को दिलवाकर उन्हें हेल्प की जाएगी। सोफिया सोगम ने उठाया मदद का बीड़ा, साथ ही छात्राओं को शेयरिंग का महत्व भी समझाया जाएगा। इतना ही नहीं शहर की आम जनता भी लिट्रेचर और मोटिवेशनल किताबों को अगर आपस में एक्सचेंज करना चाहती है तो उसकी सुविधा भी सोगम देगा। स्कूल की एल्युमिनी ने इस सोशल सर्विस को करने का बीड़ा उठाया है।

शेयरिंग, हेल्प और किताबों का सही प्रयोग
सोगम की पदाधिकारी डॉ. श्रुति सहगल के अनुसार हम लोग हर साल सोगम का एनुअल डे सेलिब्रेट करते हैं। साथ ही चैरिटी वर्क भी करते हैं। इसमें स्कूल की नई छात्राएं, वर्तमान में जो सोफिया स्कूल में पढ़ रही हैं उनको भी शामिल किया जाता है। इस बार हमारी योजना बुक एक्सचेंज प्रोग्राम की है। ताकि सीनियर्स की बुक्स जूनियर्स को मिलें और उनकी हेल्प हो सके। इसलिए बुक एक्सचेंज प्रोग्राम होली के बाद चलाएंगे। इससे छात्राओं में एक फ्रैंडशिप माहौल बनेगा। सीनियर-जूनियर के बीच डर खत्म होगा। साथ ही छात्राएं शेयरिंग सीखेंगी। उनको मदद भी मिलेगी। किताबें भी प्रयोग होती रहेंगी।

पुरानी छात्राओं का समूह है सोगम
मिशनरी स्कूल सोफिया की एल्युमिनी एसोसिएशन का नाम सोगम है। सोफिया गर्ल्स ओल्ड स्टूडेंट एल्युमिनी मीट। इस एसोसिएशन में सोफिया स्कूल की लगभग 1000 से अधिक पुरातन छात्राएं जुड़ी हैं। हर साल सोगम का एनुवल डे किसी थीम पर सेलिब्रेट किया जाता है। 2 अक्तूबर को भी विशेष प्रोग्राम का आयोजन होता है। समय-समय पर सोगम दान, प्लांटेशन, सफाई, स्वास्थ्य पर भी काम करता है। सेमिनार्स का भी आयोजन सोगम की तरफ से किया जाता है। कई छात्राएं हैं जो विदेश में रहती हैं लेकिन एनुवल डे पर वो अपने स्कूल जरूर आती हैं। संस्था की प्रेसिडेंट स्कूल की प्रिंसिपल होती हैं। @Back To Home

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.