योगी की ताजपोशी का काउंट डाउन

योगी की ताजपोशी का काउंट डाउन, कीर्तिमान स्थापित करते हुए लगातार दूसरी बार सीएम बनने जा रही योगी आदित्यनाथ की ताजपोशी का काउंट डाउन शुरू हो गया है। उनका विधायक दल का नेता बनना तय है। सब कुछ पहले से तय योजना के अनुसार चल रहा है। जीत कर आए सभी विधायक पहले से ही लखनऊ में मौजूद हैं। इनके अलावा जिन वीवीआईपी को ताजपोशी का न्यौता भेजा गया है उनको भी पहुंचना शुरू हाे गया है। यूपी की सत्ता में दोबारा काबिज होकर इतिहास रचने वाले योगी आदित्यनाथ की ताजपोशी की घोषणा केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाए गए गृहमंत्री अमित शाह, सह-पर्यवेक्षक रघुवर दास और प्रदेश चुनाव प्रभारी धर्मेद्र प्रधान की मौजूदगी में होने वाली भाजपा विधायक दल की बैठक में होगी। इसके बाद राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के समक्ष योगी सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। योगी सरकार-2.0 का शपथग्रहण समारोह शुक्रवार को राजधानी के शहीद पथ स्थित अटल बिहारी वाजपेयी इकाना स्टेडियम में होगा। जिसकी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, प्रदेश चुनाव प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान और प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह की मौजूदगी में योगी मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उनके साथ अन्य मंत्री भी शपथ लेंगे। समारोह में कई केंद्रीय मंत्री, भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारी, साधु-संत, विभिन्न क्षेत्रों के गण्यमान्यजन शामिल होंगे। देशभर के प्रमुख विपक्षी नेताओं को भी न्योता भेजा गया है।

सूत्रों के अनुसार गुरूवार को राजधानी के लोक भवन में होने वाली विधायक दल की बैठक में कार्यवाहक मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को विधायक दल का नेता चुना जाएगा। प्रस्तावित कार्यक्रम के अनुसार विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद योगी शाम को राजभवन पहुंचकर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के समक्ष 273 विधायकों के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे।

योगी सरकार-2.0 में मंत्री कौन-कौन होंगे, इसे लेकर तमाम तरह के कायास चल रहे हैं। इसके साथ ही ऊहापोह इस बात को लेकर भी है कि क्या फिर से दो उपमुख्यमंत्री बनाए जाएंगे? बनाए जाएंगे तो क्या फिर केशव प्रसाद मौर्य और डा. दिनेश शर्मा ही होंगे? इसी बीच यह भी संभावना जताई जाने लगी कि पिछड़ा वर्ग के नेता के रूप में केशव की वापसी लगभग तय है। यदि उनके चुनाव हार जाने का विषय आधार बनता है तो पिछड़ा वर्ग से ही आने वाले अन्य किसी नेता को यह कुर्सी मिल सकती है। उसमें सबसे ज्यादा प्रभावी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह हो सकते हैं। दलित और महिला कोटे से आगरा ग्रामीण विधायक व उत्तराखंड की पूर्व राज्यपाल बेबीरानी मौर्य की दावेदारी दो पदों पर मानी जा रही है। उपमुख्यमंत्री या विधानसभा अध्यक्ष। सूत्रों के मुताबिक भाजपा के वरिष्ठ नेताओं का मानना है कि बेबीरानी राज्यपाल रह चुकी हैं, ऐसे में उन्हें मंत्री बनाने की जगह विधानसभा अध्यक्ष का संवैधानिक पद ही देना उचित होगा।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2022 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के चेहरे पर लड़ा गया। प्रधानमंत्री ने कई बार चुनावी मंचों से आएंगे तो योगी ही और योगी ही उपयोगी जैसा नारा देकर स्पष्ट संदेश दे चुके थे कि भाजपा दोबारा सरकार बनाती है तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ही होंगे।

यूपी विधानसभा चुनाव से ठीक पहले गृहमंत्री अमित शाह ने राजधानी के डिफेंस एक्सपो मैदान में 29 अक्तूबर, 2021 को आयोजित पार्टी के कार्यकर्ता सम्मेलन में शाह ने कहा था कि 2024 में नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए 2022 में योगी को फिर से प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाना जरूरी है। संगठन की शक्ति और अमित शाह की रणनीति के साथ मोदी-योगी की जोड़ी ने विपक्षी मंसूबों को ढेर कर अकेले 255 व गठबंधन सहयोगियों के साथ 273 सीटें जीत लीं। अब सरकार बनाने जा रहे हैं। @Back To Home

Share

By editor1

Leave a Reply

Your email address will not be published.